उत्पति नी कहानी

1‐उत्पति
 
ऐमेस हरग मण्डल पूरों संसार सरु थायों । परमेश्वर वें सों दाड़ मं अणां पूरां संसार अनें जों भीं हें ऐनें रसयों। परमेश्वर वें धरतीं बणावें नें पसें धरतीं इन्दारां थकीं भराइलीं अनें सानीसप पड़लीं हेथीं। ऐनेंमं कइस नें बणांवळूं हेथू। पोणें परमेश्वर नीं आत्मां तां  पाणीं नें ऊपर हेथीं।
तरं परमेश्वर वें केदूं इजवाळूं थां तें इजवाळूं थाई गयूं। परमेश्वर वें देख्यूं कें बखे हें अनें परमेश्वर वे इजवाळां ने दाड़़ाें केदो ; परमेश्वर वे इजवाळां नें इनदारां माहो सिटी करुं अनें परमेश्वर वे रातर केदी परमेश्वर वे सरस्टी ने पेलं दाड़़े इजवाळां नी सरस्टी करी। सरस्टी ने बीजे दाड़े परमेश्वर वे केदो अनें धरती ऊपर हरग बणाइयू।
तीनमें दाड़े परमेश्वर वे केदो अनें हुकी धरती थकी पाणी अलग (सीटी ) करुं परमेश्वर वे हुकी जगा ने धरती केदी अने जी पाणी भेळों थायु ऐनें दरयों केदो।
 फेर परमेश्वर वे केदों ’’ धरती ने ऊपर हर तरें नं रोखड़ा अनें नानां झाड़खं उगे अनें तेमेस थाई ग्यां। परमेश्वर वे देख्यों के जी सरस्टी अणयें बणावी हे इं बखे है।
सरस्टी ने स्यारमें दाड़े परमेश्वर वे केदो अनें दांड़ो ; सांद अनें तारां ने बणाइयां। परमेश्वर वे धरती ऊपर इजवालु करवां ने हारु दाड़ो अनें रातर अनें वरहो ने फरक करवां हारु बणायां । परमेश्वर वें केदों कें अणां पाणी मं तरवां वाळां हेथां अनें पखेरु ने परमेश्वर वें बणायां।परमेश्वर वें देख्यूं कें बखें हें अनें अणनें आसीस आलीं।
सरस्टीं नें सटवें दाड़ें परमेश्वर वें केदूं ’’हेथं तरें नां धरतीें मं जनावरां थायें जों अनें आं जेम परमेश्वर वें केदूं तेमेस हेथं थायें गयां। थोड़क, धरतीं नें ऊपर रगवां वाळां ,थोड़क खेतर वाळं अनें थोड़क डोगरां वाळां जनावरां हेथं। अनें परमेश्वर वें देख्यूं कें आं बखें।
फेर परमेश्वर वे केदो ’’ आपोण मनख ने आपड़ास रुप अनें आपड़ेस हरकं बणायू हे। अणां कनें धरती अनें हेतां जनावरां माथे अधिकार रेहे।
 फेर परमेेश्वर वे थोडिक गार लेदी अने तेनें थकी आदमी  बणाइव्यों अने तेने मऐ जीवन नों हां फोकें देदों अनें अणां आदमीं नों नाम आदम हेथूं। अनें परमेश्वर वें तेनें रेवां नें हारु ऐक वगीसों बणायों। अनें वगीसां नीं रखवाळीं करवां नें हारु तां ऐनें मेनें देदों। वगीसा नां वीसाळां मं परमेश्वर वें खास तरें नां रोखडं, जीवन नों रोखडों अनें ताजूं अनें भोन्डां नीं अकल नूं रोखडू लगाड़यां। परमेश्वर वें आदम नें केदूं कें ताजू अनें अकल नां भोन्डां नां राखड़ां नां फोळ नें सोड़ेन वगीसां माहं कईनां भीं रोखड़ा नूं फोळ खाई सकें। अनें तूं जरं नां केदेला रोख्ंड़ा नूं फोळ खाहीं तें तू मरीं जाहीं।
ऐने बाद मं फेर परमेश्वर वें केदू कें आदमीं नूं ऐखलूं रेवू ताजूं नहें। पोण अणां जनावरां मं कइनास जनावरां नें हातें मेळ नहें खातों। ऐतरें परमेश्वर वें आदम नें घोर निदर मं हूवाड़ें देदों। तरां परमेश्वर वें आदम नीं पाहळीं नें माहीं ऐक बइयेर नें बणावीं अनें ऐनें आदम कनें लाइयां । जरं आदम वें ऐनें देखेन केदूं कें वाहें रेन यें मारें जेवीस हें । ये आदम माहीं बणावलीं हें ऐतरें ऐनें बइयेर नें नाम थकी जाणहें। ऐनें कारण हों आदमीं आपड़ें बां नें सोड़ेन  नें ऐनीं बइयेर हातें ऐक थायें जाहें।
परमेश्वर वें ऐनेस हरकां आदमीं अनें बइयेर नें बणायां। अनें परमेश्वर वें देख्यू कें आं ताजूं हें । अणें अणनें आसीस आलीं। अनें अणनें केदूं कें ’’घणस सेारां -सोरीं नें पेदां करों । अनें धरतीं मं भरायें जों अनें आं हागळीं रसनां सटवें दाड़ें थाई ।
जरं  हातवों दाड़ों आयों , परमेश्वर वें अणंनू काम पूरों करें लेदों, ऐतरें  परमेश्वर वें हातवें दाड़ें हेथूं बणावें नें थाकलों गाळों । अणावें हातवां दाड़ां नें आसीस आलीं अनें ऐनें पवितर बणायों । केम कें अणें दाड़ें परमेश्वर वें हेथं कामं थकीं आरम करयों । ऐवां तरिकां थकीं परमेश्वर वें आं पूरों हरग अनें धरतीं अनें जों भीं हें इं हेथूं बणावयूं।

बाइबल नीं वारतां मंः उत्पति 1-2